Womens T20 Challenge 2022: सुपरनोवा की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने भारतीयों को नजरअंदाज कर इस विदेशी खिलाड़ी को दिया तीसरी बार ट्रॉफी जीतने का पूरा श्रेय


Women’s T20; Velocity VS Supernovas Final : महिला टी20 लीग का फाइनल मुकाबला बीती रात 28 मई को वेलोसिटी (Velocity) और सुपरनोवा (Supernovas) के बीच महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम (Maharastra Cricket Association Stadium) के मैदान पर खेला गया। जिसमें सुपरनोवा (Supernovas) ने वेलोसिटी (Velocity) को 4 रन से एक बेहद रोमांचक मैच में हरा कर जीत दर्ज की। ये महिला टी20 लीग का चौथा संस्करण था, जिसमें सुपरनोवा (Supernovas) ने जीतकर चार संस्करण में तीन अपने नाम कर लिए हैं।

मैच में टॉस हारने के बाद सुपरनोवा की टीम ने प्रिया पुनिया के 29 गेंदों मे दो छक्कों की मदद से 28 रन, डिएंड्र डोटिन के 44 गेंदों पर 62 रन और कप्तान हरमनप्रीत कौर की 29 गेंदों पर 43 रन की पारी के चलते 165 रन बनाए। बदले में वेलोसिटी टीम 20 ओवर्स में 8 विकेट के नुकसान के बाद 161 रन ही बना सकी। जीत के बाद कप्तान हरमनप्रीत कौर ने खिलाड़ियों की काफी तारीफ की और साथ ही कहा कि उन्हें उम्मीद थी कि ऐसा ( रोमांचक मैच) होने वाला है।

सही समय पर विकेट मिलने से मिली जीत: हरमनप्रीत कौर

सुपरनोवा की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने आज भी 44 रन की पारी खेली है। जिसके बाद वो तीन मैच में 151 रन बनाकर टीम को जीत में सहभागी बनी। मैच के बाद उन्होंने कहा कि सही समय पर विकेट मिलने के कारण ये जीत उनके हाथ लगी। उन्होंने कहा

“यह हमेशा सामान्य (दिल की धड़कन) था। मुझे पता है कि यह खेल ऐसा ही होने वाला है और मैं इसके लिए तैयार थी। खिलाड़ियों का आत्मविश्वास सराहनीय है। हमें कभी नहीं लगा कि हमने मैच जीत लिया है और हमें पता था कि कुछ भी हो सकता है। पहला ओवर हमारे पक्ष में नहीं था, लेकिन मुझे पता था कि अगर हमें 2 विकेट जल्दी मिल जाते हैं तो मैच हमारे लिए टर्न ले सकता है। सही समय पर हमें विकेट मिल रहे थे”।

खिलाड़ियों की जमकर की तारीफ

जीत के बाद कप्तान हरमनप्रीत कौर ने खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा  “जब पूजा ने शुरुआत की तो हमने कुछ और प्लान किया, लेकिन हम जो सोच रहे थे वो वो गेंदबाजी नहीं कर पा रहे थे. हो जाता है। सोफी ने जिस तरह से गेंदबाजी की वह शानदार थी। वह काफी आश्वस्त थी। अगर आपके पास ऐसा गेंदबाज है जो इतना आत्मविश्वासी है, तो आधा काम हो जाता है। मैं बस उसे प्लेसमेंट दे रही थी और वह उसी तरह से गेंदबाजी कर रही थी जिस तरह से वह गेंदबाजी करना चाहती थी। जब आपके पास टीम के साथी होते हैं जो हमेशा हर पल खेलना चाहते हैं, तो आप ऐसा करते हैं कि यह आपके पक्ष में है या नहीं”।

0/Post a Comment/Comments